भारत में किस शहर को कहा जाता है ‘Space City’, जानें

भारत ने चंद्रयान-3 मिशन की सफलता के साथ ही इतिहास के पन्नों में अपना नाम सुनहरे अक्षरों के साथ दर्ज करा दिया है। चांद के दक्षिणी ध्रुव पर सबसे पहले पहुंचना वाला देश भारत बन गया है।

इसके साथ ही चांद पर पहुंचने वाले देशों में भारत चौथा देश बन गया है। इन दिनों सभी लोग चंद्रयान-3 मिशन के बारे में पढ़ रहे हैं। हालांकि, क्या आपको पता है कि भारत का एक शहर ऐसा भी है, जिसे ‘Space City’ भी कहा जाता है। कौन-सा है यह शहर और कहां है स्थित, जानने के लिए यह पूरा लेख पढ़ें। 

 

किस शहर को कहा जाता है ‘Space City’

भारत में आपने अलग-अलग शहरों के बारे में सुना और पढ़ा होगा। हालांकि, एक शहर ऐसा भी है, जिसे अंतरिक्ष का शहर भी कहा जाता है। आपको बता दें कि भारत के कर्नाटक राज्य के बंगलुरू शहर को ‘Space City’ के नाम से भी जाना जाता है। इसके अलावा यह शहर IT City,  Electronic City और Garden City के नाम से भी जाना जाता है। 

 

क्यों कहा जाता है ‘Space City’

बंगलुरू शहर भारतीय अंतरिक्ष एजेंसियों के हिसाब से महत्वपूर्ण है। क्योंकि यहां पर U R Rao Satellite Centre है, जो कि सैटेलाइट के निर्माण में अहम भूमिका निभाता है। इसके साथ ही इसकी सैटेलाइट के तकनीकी विकास में भी अहम भागीदारी है।

इस एजेंसी के अलावा यहां पर इसरो टेलीमेट्री, ट्रैकिंग और कमांड नेटवर्क भी है, जो कि लांचिंग के दौरान इसरो को सैटेलाइट को ट्रैक करने में मदद करता है। वहीं, अंतरिक्ष विभाग और इसरो का मुख्यालय भी बंगलुरू में ही स्थित है। यही वजह है कि इस शहर को भारत में स्पेस सिटी के नाम से भी जाना जाता है। 

See also  Ramoji Film City Crane Accident: CEO Of US-Based Teach Company Died

 

क्या है इस शहर का इतिहास 

बंगलुरू शहर के इतिहास की बात करें, तो शुरुआत में इस शहर में एक मिट्टी के किले के चारो ओर एक बस्ती हुआ करती थी, जिसका निर्माण 1537 में नादप्रभु केम्पेगौड़ा ने कराया था। साल 1761 में इस किले का निर्माण पत्थर से किया गया।

शुरुआत में यहां पर चोल शासकों ने राज किया, जिसके बाद शहर की सत्ता होयसल वंश के हाथ में आ गई थी। भारत का यह शहर सालभर अपने सुहावने मौसम के लिए जाना जाता है। इसके साथ ही यह भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। 

 

पढ़ेंः भारत के किस गांव को कहा जाता है ‘कुंवारों का गांव’, जानें

Categories: Trends
Source: HIS Education

Rate this post

Leave a Comment